Hindi Shayari

Hindi Shayari

हिंदी शायरी, भारतीय कविता जगत की एक समृद्ध परंपरा है और इसीलिए तो इसके कई रूप भी हैं।

आज, यह भारत की संस्कृतियों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, सदियों से भारतीय जान मानस इसका कायल रहा हैं।

मेरी जानकारी के अनुसार, शायरी के सात मुख्य शायर हैं जो मीर तकी मीर, मिर्जा गालिब, मीर अनीस, अल्लामा इकबाल, वारिस शाह, बाबा फरीद और जोश मलीहाबादी हैं।

तो आपकी प्यार भरी लिरिक्स कोट्स वेबसाइट को उम्मीद है कि आपको इस पेज पर प्रकाशित हिंदी शायरी पसंद आएगी।

Hindi Shayari
Hindi Shayari

हम हर समय के लिए, हर क्षेत्र और जीवन के महत्वपूर्ण क्षण के लिए हैं। तो आप अन्य पेज जैसे दिवाली शायरी, न्यू ईयर शायरी हैं।

इसी तरह बर्थडे शायरी, गुड नाइट शायरी इन हिंदी, गुड मॉर्निंग शायरी और कई अन्य तरह की हिंदी शायरी का लुफ्त उठा सकते हैं।

Top Hindi Shayari – Best 100 हिंदी शायरी

दोस्तों अब मैं आपसे शायरी लिखने की इजाजत चाहता हूँ जो आपके दिल को छू जाएगी:

खुदा जब हुस्न देता है, तो नजाकत आ ही जाती हैं
कदम चुन चुन कर रखती हो, कमर बल खा ही जाती हैं।

तेरे आने के बाद हल्का हुआ हैं गम ये मेरा
इंतजार करता रहा हर पल जीवन का फेरा
तुम्हे शायद खबर नहीं होगी मेरी तड़प की
इसीलिए रुख पर लगा हैं जुल्फों का पहरा

याद आती रही तेरी, और दिल ये रोता रहा
इस कदर आशिक तेरा होंसला खोता रहा
जैसे बरसात के बाद निकलती हैं धुप तो
सुबह होने तक चाँद बादलों में सोता रहा

मिला था तुमसे जब तो मिल गयी थी वजह
जीने का हुआ इरादा, बीत गयी जैसे सजा
खुसबू बनाकर तुम आंगन महका दो मेरा
इस उजड़े चमन में भी ला दो सावन फिज़ा

होंसला रखो के मिलन होगा जरुर हमारा
तुम हो बहती नदी मैं बन जाता हूँ किनारा
रम जाओ मुझमे इशरत के हो न पाए जुदा
आखरी सांस तेरे नाम हो मेरी करे ऐसा खुदा

मंजिल मिल ही जाती हैं अगर इरादा करे
आओ हम साथ जीने मरने का वादा करे
पल भर भी दूर ना रहो आँखों से मेरी
प्यार ज्यादा करे हम, झगड़ा आधा करे

फूलों से भी प्यारी हैं ये खुसबू तेरी
तभी तो अटकी हैं तुझमे साँसे मेरी
कभी तनहा ना छोड़ना, भंवरे को
सुनाई देंगी सपने में भी आहे मेरी

हर पल तेरा ही इंतजार करता हूँ
मैं तो सिर्फ तुम से प्यार करता हूँ
किताबों में जी नहीं लगता हैं मेरा
तेरे बिना यूँही घुट घुट के मरता हूँ

आओ कभी पहाड़ी पर खड़ा रहता हूँ
नदियों में इंतजार तेरा ही मैं करता हूँ
किनारा किनारे से कभी नहीं मिलता
यही सोच मैं दिल को बड़ा रखता हूँ

Sad Shayari in Hindi

तेरे पैरों में पड़ा हैं, ये दिल कुचलना नहीं
जी नहीं पाएंगे हम ऐसा कुछ करना नहीं
बिछड़कर तुमसे मर जाऊँगा ये पक्का हैं
करो प्यार कभी तो दुनिया से डरना नहीं

रांझे ने हीर को दिया था वो दिल नहीं
लैला मजनू जैसी भी कोई मंजिल नहीं
टूटकर चाहते हैं तुझको ये मेरे हमदम
मौत भी आये तो आये हम बुझदिल नही

नाराज़ हुई तो चल दी तुम हमे छोडकर
बचपन जवानी के प्यार से मुंह मोडकर
हो जायेगा रुसवा ये आशिक इतना
चला जायेगा कब्र में, कफ़न ओढ़कर

Nahi Jaana Tulsi Kumar

सुबह हो रोशन, शाम आपकी प्यार भरी
आपके लिए ही तो हमने, यह दुआ है करी
खिल जाए आपकी जिन्दगी फूलों की तरह
सावन के महीने में हो जाती हैं जैसे घास हरी

रात को सपने में कुछ बुरा ना दिखे
मेरे महबूब कभी दुःख जरा ना दिखे
ख़ुशी हो हर पल बस तेरी किस्मत में
गम का भूलकर भी चेहरा ना दिखे

करती हूँ दुआ, हो जाए सब काम सफल
जिन्दगी बीते तेरी जैसे कोई रंगीन गजल
मेरे प्यार तुझे मिले, बस हर पल खुशियाँ
दया से भरा दिल, और इमानदार अक्ल

सुरत देखू जब तेरी तो हो जाऊं फ़िदा
करती हूँ वादा, नहीं होंगी कभी जुदा
तुझपे दिल हैं मेरा तुझ पर ही निगाह
मना लुंगी तुझे जब भी होगा तू खफा

तबियत हो जाति हैं रंगीन जब देखू तुझे
मेहमान बनकर आया था तू दिल में मेरे
हसीन हो गयी जिन्दगी, जब मिला मुझे
अपनी जान से ज्यादा मैं चाहती हूँ तुझे

करीब आना तेरे, मेरा ही नसीब हैं
प्यार की शय हैं, ये बड़ी अजीब हैं
मिठास भर देता हैं यु तकना तेरा
बड़ा टेस्टी हैं, तू बड़ा ही लजीज हैं

Top Hindi Shayari 2019

मैं सबसे छोटी होऊं

मैं सबसे छोटी होऊं
तेरी गोद में सोऊँ
तेरे आंचल पकड़ पकड़ कर
फिरू सदा माँ! तेरे साथ,
कभी ना छोडू तेरा हाथ!

बड़ा बनाकर पहले हमको
तू पीछे छलती है मात
हाथ पकड़ फिर सदा हमारे
साथ नहीं फिरती दिन – रात

अपने कर से खिला, धुला मुख,
धुल पोछ, सज्जित कर गात
थमा खिलोने, नहीं सुनाती
हमें सुखद परियो की बात

ऐसी बड़ी न होऊ मैं
तेरा स्नेह न खोऊ मैं
तेरे अंचल की छायामें
छिपी रहू निस्पृह, निर्भय,
कहू – दिखा दे चंद्रोदय

कविता वह चिड़िया जो

वह चिड़िया जो
चोंच मारकर
दूध-भरे जुंडी के दाने
रूचि से, रस से खा लेती है
वह छोटी संतोची चिड़िया
नीले पंखोवाली मै हूँ
मुझे अन्न से बहुत प्यार है

वह चिड़िया जो –
कंठ खोलकर
बूढ़े वन -बाबा की खातिर
रस उड़ेलकर गा लेती है
वह छोटी मुंह बोली चिड़िया
नीले पंखोवाली में हु
मुझे विजन से बहुत प्यार है

वह चिड़िया जो
चोंच मारकर
चढी नदी का दिल टटोलकर
जल का मोती ले जाती है
वह छोटी गरबीली चिड़िया
नीले पंखोवाली में हूँ
मुझे नदी से बहुत प्यार है

चाँद से थोड़ी – सी गप्पें कविता

(दस ग्यारा साल की एक लड़की)

गोल हैं खूब मगर
आप तिरछे नजर आते है जरा
आप पहने हुए हैं कुल आकाश
तारो-जडा;

सिर्फ मूह खोले हुए है अपना
गोरा-चिट्टा
गल-मटोल

अपनी पोशाक को फैलाए हुए चारो सिम्त
आप कुछ तो तिरछे नजर आते हैं जाने कैसे – खूब हैं गोकि!

वाह जी, वाह!
हमको बुद्धू ही निरा समझा हैं !
हम समझते ही नहीं जैसे की
आपको बिमारी हैं:

आप घटते हैं तो घटते ही चले जाते हैं
और बढ़ते हैं तो बस यानी की
बढ़ते ही चले जाते हैं

दम नहीं लेते हैं जब तक बिलकुल ही गोल न हो जाए
बिलकुल गोल
यह मरज आपका अच्छा ही नहीं होने में… आता हैं

Karan Deswal

I am a song lover from Delhi India

You may also like...